चेतावनी /जाँच के समय /नकली सर्टिफिकेट

Unrecognized Homoeopathic Institutions In India

ORDER regarding grant of recognition to the various streams of alternative medicine by Govt. of India more

The Central Council of Homoeopathy vide its Memo No.136/83-CCH Dated; 5th May 1985 and V26025/12/83-AE 12th September 1983 has clarified for the information of General Public that Institutions advertising any postal course or arranging registration in Homoeopathy are neither recognized by State/Central Government nor affiliated to the Universities/ Statutory Boards/ Councils of Homoeopathy. The purpose of these Institutions is onlyTO MAKE MONEY by attracting innocent persons who are anxious to get themselves registered as medical practitioners. The Central council of Homoeopathy cautions the public that such institutions as for example given below, have no recognition at all to grant registration as homoeopathic practitioners and the qualifications awarded by these institutions do not confer any right whatsoever on the holders of such certificates to practice homoeopathy in any part of India:

  • Homoeopathic Medical Mission, Trivandrum
  • Mavelil Homoeopathic Mission, Trivandrum
  • Grace Medical Mission, Kerala-3
  • Bharat Homoeopathic syndicate, Madurai
  • Board of Homoeopathic Medicine,Fazilka, Punjab
  • Central Cancer Homoeopathic Council, Janak Puri, New Delhi
  • Central Council of Miscellaneous System of Medicine, Janak Puri, New Delhi
  • Registration Guidance Institute, Delhi 53
  • National Cancer College, Delhi
  • Premier Homoeopathic Medical College, Chandigarh
  • Board of Electro homoeopathic system of Medicine or its any Branch or College any where in India
  • Secondary Board of education at Lucknow , Delhi, Bareilly or any where in India
  • Bihar Homoeopathic Pharmacy Council, Patna
  • Sathi Homoeopathic Medical College, Laheria Sarai
  • Medical Advisors Association, Kanpur
  • Modern Medical College, Dharbhanga
  • National Cancer College, Delhi
  • Central Medical College & Hospital, Delhi
  • Shivaji Public College, Rana Pratap, Delhi
  • Health Education Institute, Nagpur
  • National institute of Acupuncture & Homoeopathy, Near Masjid, Main Road, Sitabuldi, Nagpur
  • REH Medical College & Hospital, Jabalpur, MP
  • Dr. Arjun Pandey, Principal,90, Janta Housing Colony, Dhanbad, Bihar
  • Chikago Medical college of Homoeopathy, L-7-80, Shastri Nagar, Varanasi
  • National Homoeopathic Medical College, Dishpur, Guwahati
  • Council of Rural Medical practitioner, New area, Kadam Kuan, Patna-3
  • PIA Medical College, Mahesh nagar, Patliputra, Patna
  • Indian Institute of Homoeopathic, Bahola, Gandhi Nagar, Bangalore
  • Karnatka Homoeopathic College, Bangalore
  • Ananda Medical College, Bangalore
  • National Medical College, Badravati
  • Honiman Homoeopathy Institute & Hospital, Haralepete, Tumkur

DISCLAIMER

Every effort has been made to provide the information with regard to Homoeopathic Medical Colleges, in India. Any further clarification can be obtained from:
Office of Central Council of Homoeopathy, Jawarlal Nehru Bhartiya Chikitsa avum
Homoeopathy Anusandhan Bhawan, No.61-65, 5th  & 6th floor, Opposite “D” Block,
Institutional area, JANAKPURI, NEW DELHI 110058

Updated on: 01 Feb 2010

img307

नोट – इसी प्रकार की अन्य संस्थाए जो सरकार की दृष्टि मे नही आई है / किराये के भवनो मे बिना किसी सरकारी मान्यता के सरकार के मिलते जुलते नामो से संस्था का नाम रख लेते है। प्रमाण पत्र जारी करते है /प्रमाण पत्र मे कार्यालय का पता नही लिखते है और जाँच होने पर उनका कार्यालय बंद पाया जाता है। ऐसी ही कुछ संस्थाए जिनमे से एक दिल्ली में,एक कानपुर मे ही एक रांची में एक लखनऊ में इनसे विषेश  सावधान रहने की आवस्क्य्ता  है./
 हमारा उद्देश्य :-  
हमारा उद्देश्य किसी भी छात्र , वैद्य , डॉक्टर को धोखा देना नहीं है , हमारा उद्देश्य आपको सही तथ्यों सेसर्वप्रथम अवगत कराना है ,  संस्था तथा कोर्सेज की मान्यता के तथा सम्बंधित कानून  के  सम्बन्ध में   स्पस्ट जानकारी देना है , किसी को  झूठे तथ्य देकर चीटिंग करके , धोखा देकर , झूठ बोलकर , धन का अर्जन नहीं करना है.

                  कानूनी रूप से चिकित्सा कार्ये वही चिक्त्सक कर सकते है जिन्होंने C.P.M.T. परीक्षा पास करके साढ़े पांच साल का रेगुलर कोर्स M.B.B.S. / B.A.M.S / B.H.M.S. / B.D.S.आदि कोर्स पास किये है और 20 से 50 लाख, एक करोड़ या और अधिक रुपए खर्च किये है , और किसी को भी आज की तारीख में चिकित्सा कार्ये करने का कोई कानूनी अधिकार नहीं है।  हमारे देश में ऐसे डॉक्टर्स की संख्या लगभग 15 लाख है जबकि अनुभवी चिकत्सकों की संख्या लगभग एक करोड़ के आस पास है. 

                  इस समय अनुभव आधार पर चिकित्सा कार्ये करने के लिए अनुभवी डॉक्टर्स के लिए कोई स्पस्ट कानून नहीं बनाया गया है , न तो इन्हे सरलता से प्रैक्टिस करने के लिए अनुमति दी गयी है और न ही बड़ी कठिनता से मना किया गया है , जिस किसी चिकितसक ने किसी संस्था से डिप्लोमा लेकर तथा किसी डॉक्टर के यहाँ रहकर अनुभव प्राप्त कर समाज में अपनी  सेवाये देनी शुरू कर दी ,और समाज ने उसे चिकितसक के रूप में स्वीकार कर लिया ,  वह  ही प्रसिद्ध डॉक्टर बन गया , उसी के पास घर , गाडी , बंगला हो गया , और अब ऐसे चिकित्स्को को अपनी प्रैक्टिस और सम्मान के बचाव के लिए सरकार से रजिस्टर्ड संस्थाओ से कुछ डिप्लोमा  कोर्स करने ही होंगे जिससे उनकी प्रैक्टिस और सम्मान की रक्षा हो सके , इस समय इस तरह के 2 डिप्लोमा कोर्स किये जा सकते है :- 

1 – सी 0 एम 0 एस 0 डिप्लोमा :-     माननीय सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक निर्णय में सी 0 एम 0 एस 0 डिप्लोमाधारी चिकित्स्को को संक्रामक रोगो सहित सभी रोंगो में जनरल उपचार करने की अनुमति दी है , तथा अपने निर्णय में कहा है कि –  सी 0 एम 0 एस 0 डिप्लोमा धारी चिकित्सक अपने मरीजो को मेडिकल प्रमाण पत्र दे सकते है , — सुप्रीम कोर्ट का निर्णय होने के कारण कोई जांच अधिकारी – सी 0 एम 0 ओ 0  आदि परेशान नहीं करते है क्योंकि उन्हें भी डर होता है कि कहीं उनके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की अवमानना का केस न लग जाये और उन्हें बार – बार कोर्ट के चक्कर लगाने पड़े। आप आदर सहित अधिकारी महोदय को इस संस्था द्वारा दिए गए पेपर्स दिखाये और उनका सम्मान करे , यदि अधिकारी महोदय इस संस्था से आपके प्रमाण पत्रो का सत्यापन मांगेंगे तो संस्था  उन्हें अपने हाई कोर्ट / सुप्रीम कोर्ट के लीगल एडवाइजर के माध्यम से वेरिफिकेशन भेज देंगे। 

                                         CMS / DCMS/ CMSED/ CMS (Ayurved)/ CMS (Homoeopathy)/ CMS (Nursing) / CMS (Dental) /CMS (Naturopaty) आदि डिप्लोमा इस संस्था द्वारा कराये जाते है जिनकी मान्यता एक समान है , इनमे कोई विशेष अंतर नहीं है।

2– बी 0 ए 0 एम 0 एस 0 (नेचुरोपैथी ):-  नेचुरोपैथी सिस्टम शासन द्वारा मान्यता प्राप्त सिस्टम है , सरकारी आदेश के अनुसार नेचुरोपैथी चिकित्सक नाम के साथ डॉक्टर शब्द का प्रयोग कर सकते है , सरकार द्वारा नेचुरोपैथी के प्रशिक्षण व रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था अभी नहीं की गयी है और न ही कोई गाइड लाइन बनाई गई है सरकार द्वारा केवल BNYS कोर्स कराया जाता है।, अत : सरकार  से रजिस्टर्ड मान्यता प्राप्त संस्थाओ द्वारा दिए गए प्रशिक्षण व रजिस्ट्रेशन ही मान्य  है, नेचुरोपैथी के प्रशिक्षण व प्रैक्टिस पर कोई सरकारी रोक नहीं है , नेचुरोपैथी के प्रमाण पत्रो से नेचुरोपैथी सिस्टम में  सी 0 एम 0 ओ 0 ऑफिस में रजिस्ट्रेशन हो सकता है , 

                                   इस संस्था द्वारा D.N.S , N.D. , D.N.Y.S., B.AM.S.(Nat.) ,  आदि आदि कोर्स कराये जाते है , जिन चिकत्सकों ने किसी दूसरी संस्था से कोई कोर्स किया है और वह रजिस्ट्रेशन इस संस्था में करना चाहते है तो उनका रजिस्ट्रेशन हो जाते है , 


WARNING :

DEAR DOCTORS / EXPERIENCE HOLDING PRACTITIONERS – ATTENTION PLEASE- AT THIS TIME THERE, SEVERAL NEW INSTITUTE ARE OPENING IN THE FIELD OF ALTERNATIVE / NATUROPATHY & IN THE FIELD OF PRIMARY HEALTH CARE. WHO DOES NOT PROVIDE PROPER AND TRUE INFORMATION TO THE DOCTORS . DUE TO THIS REASON – THE DOCTORS TAKES CERTIFICATES FROM THESE INSTITUTES . AT THE TIME OF ENQUAIRY/AFTER SOME TIME HE KNOWS THAT THE INSTITUTES / CERTIFICATES BOTH ARE FALSE/ BOGUS.SO BE-BARE , PLEASE TAKE TRUE INFORMATION ABOUT THE INSTITUTE & RECOGNITION BEFORE TAKING ANY CERTIFICATES . OR ADMISSION IN ANY COURSE FOR IT —- PLEASE SEE OUR ENTIRE WEBSITE -www.saimission.org NOW-A-DAYS MOST OF THE INSTITUTES ARE NOT REGISTERED BY THE GOVERNMENT. THESE INSTITUTES DOES NOT WRITE HIS OFFICE ADDRESS OR ACT NO./ REGISTRATION NO.IN THEIR CERTIFICATES WHICH IS ENROLLED IN GOVERNMENT OFFICE OR ISSUED BY THE GOVERNMENT. THESE INSTITUTES ESTABLISHED THEIR OFFICE IN THE RENTED BUILDING AND ISSUED CERTIFICATES. AFTER 2 OR 3 YEARS THEY CLOSED THEIR OFFICE & RUN AWAY WITH YOUR MONEY.WHEN ANY INQUIRY BECOME AGAINST U AND YOUR CERTIFICATES. — CERTIFICATES ISSUING INSTITUTE’S OFFICE MEET CLOSED AND DOCTORS PROVE FALSE IN HIMSELF . — SO , PLEASE TAKE TRUE & CORRECT INFORMATION ABOUT INSTITUTES AND DIRECTORS . —THAT—- 1-THE INSTITUTE IS REGISTERED BY GOVERNMENT OR NOT. 2- THE INSTITUTES IS-HOW MANY YEARS OLD & HAVE OLDEST RECORD 3- THE INSTITUTES HAVE ITS OWN BUILDING,WEBSITES OR NOT. 4-ON BEING INQUIRY THE INSTITUTES WILL SEND VERIFICATION OR NOT . 5- THE INSTITUTES MENTIONED IN THE CERTIFICATES– HIS OFFICE ADDRESS & ACT NO. / REGISTRATION NO. ISSUED BY THE GOVERNMENT – / OR NOT . 6- CAN I SHOW YOUR CERTIFICATES TO THE C.M.O. OR SENIOR POLICE OFFICER AS– S.P. SO BE ALERT — YOU CAN TAKE THE CERTIFICATES FROM ANY INSTITUTE WHICH WILL SATISFY YOU FROM ABOVE QUESTIONS. OTHERWISE YOUR MONEY WILL BE LOST OR A CASE MAY BE FILE AGAINST YOU . SO BE BARE.

BFFORE TAKING CERTIFICATES FROM ANY INSTITUTE ASK AT LEAST 4 QUESTIONS .

1 ) ARE YOUR INSTITUTE IS WORKING MORE THAN 10 YEARS – AGO . HAVE U ALL RECORDS – ON BEING INQUIRY BY C.M.O. , DRUG INSPECTOR /POLICE / MEDIA OR ANY RELATED EXECUTIVE — WILL U GIVE /SEND VERIFICATION ?

2) CAN I SHOW YOUR CERTIFICATES TO THE C.M.O. / DRUG INSPECTOR /POLICE / MEDIA Etc. BEFORE START PRACTICE ?

3 ) WILL U SHOW YOUR OFFICE ADDRESS  / IN YOUR CERTIFICATE

4) WILL U  SHOW REGISTRATION NO. / ACT NUMBER   WHICH IS ALLOTTED BY U BY GOVERNMENT

IF ANY INSTITUTE GIVE ANSWER IN YES.. U CAN TAKE CERTIFICATES WITHOUT HESITATION , BUT BEFORE TAKING CERTIFICATES — U WILL  SEE THE SPECIMEN OF THE CERTIFICATE  .

5 ) CAN I RECEIVE REGISTRATION CERTIFICATE FROM C.M.O. OFFICE OF OUR DISTRICT ON BEHALF OF CERTIFICATES ISSUED BY U .?

हमारी संस्था के प्रमाण पत्रो की नकल करके बहुत सी संस्थाए या  व्यक्ति छात्रों को चिकितसकों को हमारी संस्था का प्रमाण पत्र बता कर स्वयं से जारी कर रही है पता चलने पर इनके खिलाफ संस्था द्वारा कानूनी कार्यवाही की जाती है लेकिन जो  चिकित्सक प्रमाण पत्र प्राप्त कर चुका होता है उसे तो पछताना  ही पड़ता है क्यों की जाँच के समय उसका रिकॉर्ड हमारे यहां नही होता है अत वेरिफिकेशन / सत्यापन मे यह लिख कर भेज दिया जाता है की यह प्रमाण पत्र हमारे यहा  से जारी नही हुआ है और न ही हमारे रिकॉर्ड मे है और फिर पूर्ण रूप से प्रमाण पत्र धारक डॉक्टर ही दोसी  पाया जाता है / अब  हमारी संस्था द्वारा जारी प्रमाण पत्रो मे संस्था का गोल्डन होलोग्राम अलग से लगा कर दिया जाता हैजिससे प्रमाण पत्रो की नकल न हो सके /

यदि आपने इस संस्था से पूर्व मे कोई कोर्स पूर्ण किया है या कोई प्रमाण पत्र किसी के माध्यम से प्राप्त किया है तो अपने प्रमाण पत्र की कापी भेजकर नया गोल्डन होलोग्राम लगा प्रमाण पत्र प्राप्त करे इसके लिए 500  रुपए प्रति कापी  की दर से देय  होगा जैसे की माना किसी चिकित्सक ने सी एम एस  का दो वर्शीय कोर्स पास किया और रेजिस्ट्रेशन प्राप्त किया है तब उसके पास कुल चार  प्रेपर्स है  इसके लिए उन्हे  500 *4  कुल 2000 /- रुपए जमा करना होगा यदि चारो प्रमाण पत्रो मे एक साथ होलोग्राम लगवाएंगे  तो 500 /- रुपए की छूट दी जाएगी तथा केवल रेजिस्ट्रेशन प्रमाण पत्र मे ही गोल्डन होलोग्राम चाहते  है तो केवल 500 रुपए ही जमा करना पड़ेगा  इससे सबसे बड़ा फायदा ये होगा 500 रुपए मे ही आपके प्रमाण पत्र का सत्यापन हो जायेगा नया गोल्डन होलोग्राम प्रमाण पत्र मिल जायेगा।img720 img718 img719वर्तमान मे  हमारी संस्था के प्रमाण पत्रो की नकल करके अनेको व्यक्ति / संस्थाए हमारी सस्था के नाम से या अपनी संस्थाओ के भ्रामक नाम दे कर प्रमाण पत्र जारी कर रही है ऐसे वयक्तियो /संस्थाओ से सावधान  रहे ऐसे ही कुछ मामले प्रकाश मे आये है अत: 1000 रूo शुल्क  भेज कर अपने प्रमाण पत्रो का सत्यापन कराले इसी  प्रकार का मैटर डॉo देवकी नंदन अग्रवाल ददुआ बाजार जिला गोंडा उत्तर प्रदेश का है जिसमे सी०एम०ओ० ऑफिस तथा थाना कोतवाली जाँच अधिकारी विनोद कुमार यादव पुलिश इन्स्पेक्टर  के द्वारा इस संस्था से प्रमाण पत्रो का वेरिफिकेशन (सत्यापन ) माँगा गया / प्रमाण पत्र   हमारी संस्था से जारी नही किये गए थे किसी वयक्ति /संस्था ने फर्जी रूप से  बना करके उनको दिए गए थे ,अत: उनको लिख कर के भेज दिया गया कि  यह प्रमाण  पत्र हमारी संस्था से जारी नही किये गए है और पूर्णतया फर्जी है  इससे उस डॉक्टर के विरुद्ध केस लग गया थाने में सी०एम०ओ० द्वारा रिपोर्ट करायी गयी थी कृपया उपरोक्त प्रपत्र देखें –

नकली प्रमाण पत्र का  नमूना – देश की कुछ संस्थाए कुछ इस प्रकार  प्रमाण पत्र जारी करती है  जिसमे अपना पता नही लिखती है उदाहरण के तौर पर नई दिल्ली  की एक संस्था द्वारा जारी प्रमाण पत्र – इसमे देखे –

1- संस्था के कार्यालय का पता नही  लिखा है 2- प्रमाण पत्र जारी करने की तिथि नही लिखी है 3-प्रमाण पत्र मे नीचे जो ब्लॉक या मोहर है स्पस्ट नही है क्या लिखा है क्या है लगता है कि अशोक की लाट  है लेकिन जब इसे इंटरनेट  से  बड़ा करके देंखा गया तो यूरोप ओपन यूनिवर्सिटी फ्रांस का (लोगो) निकला 4- प्राय: कोई संस्था सरकार के किसी एक एक्ट मे रजिस्टर्ड होती है जबकि इसमे रजिस्ट्रेशन के कई एक्ट  दर्शाये गए है 5-प्रमाण पत्र की शब्दावली  हमारी संस्था द्वारा जारी प्रमाण पत्र की नकल की गयी है 6- कुछ और भी ऐसे ही  तथ्य  है अत : प्रमाण पत्र लेने से पूर्व अपने विवेक का प्रयोग करे 7-और विषेश  बात ये है की जब किसी का सत्यापन इनके पास भेजा जाता है तो उसे  रिफूज्ड कर देते है  / और इसी पर जाँच अधिकारी प्रमाण पत्र धारक के ऊपर कानूनी कार्यवाही करता है
जाँच के समय-
 यदि आप ने हमारी संस्था से सी ० एम ० एस ० / सी०एम०एस० ई०डी० कोर्स एलोपैथी /आयुर्वेद /होम्योपैथी /डेंटल या नर्सिंग में कोर्स किया है या करना  चाहते  है या प्रेक्टिश कर रहे है उस समय यदि कोई जाँच अधिकारी तुम्हारे चिकित्सालय मे जाँच के लिए  आता है तो डरने की कोई आवश्यकता  नही है जाँच अधिकारी का सम्मान करे आदर पूर्वक मधुर वचन बोलते हुए संस्था  द्वारा दिए सभी पेपर्स जैसे दोनों वर्ष  की मार्कशीट ,प्रमाण पत्र ,रजिस्ट्रेशन प्रमाण पत्र दिखाए तथा साथ मे सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की कॉपी विशव स्वास्थ्य संगठन (W ० H ० 0 ० )द्वारा प्राथमिक चिकित्सा के लिए मान्य 150 दवाओ की सूची तथा जाँच अधिकारी के नाम दिया गया एक पत्र आप को सस्था द्वारा दिया जायेगा जाँच अधिकारी संस्था द्वारा  देय पत्र पढ़ने के बाद आपके प्राथमिक चिकित्सा के कार्य मे बाधा नही पहुचायेंगे -जाँच अधिकारी महोदय का आशीर्वाद प्राप्त करते हुए अपना कार्य करे अपनी प्रेक्टिश (आजीवका )और समाज मे अपने अर्जित सम्मान की रक्षा करे /जाँच अधिकारी को दिए जाने वाले पत्र की प्रति इस प्रकार है –
img721img807img584

प्रश्नावली

 Q.1 CAN I PRACTICE AS A MBBS DOCTOR AFTER TAKING PARA MEDICAL COURSE CERTIFICTE FROM YOUR INSTITUTE?

ANS. NO You can’t Practice like a MBBS Doctor after completing Para medicine course. Para mean extra you can work as assistant of qualified doctor According to Hony. Supreme Court judgment. The paramedical CMS diploma holder can practice as diploma holding basic doctor where is no doctors you can practice as community health servicer (primary doctor) on the base Hon. Supreme Court judgment.  The Inquiry Officer does not harass on practicing on the basis of CMS diploma , because they will fear in himself that a case of deny of supreme court judgement may be file against him , u will show him respectfully the papers of C.M.S. & some related papers which will be given by the institute, to u . If inquiry officer will send us for the verification of your certificates .We will send him verification with all facts by our legal advisers of High Court & Supreme Court. Do’nt worry -serve the distressed humanity with true feeling remembering God,  if feel any problem u can consult on phone 9-11 P.M. & A.M.

प्रश्न ) क्या आपकी संस्था से पैरामेडिकल में प्रमाण पत्र प्राप्त कर हम MBBS डॉक्टर की तरह प्रैक्टिस कर सकते है

उत्तर – नहीं , आप पैरामेडिकल कोर्स के प्रमाण पत्रों से  MBBS डॉक्टर की तरह प्रैक्टिस नहीं  कर सकते है , पैरा माने “अतिरिक्त ” अर्थात आप सहायक के रूप में काम कर सकते है , माननीय सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुसार CMS डिप्लोमा धारी चिकित्सक प्राथमिक चिकित्सक के रूप में चिकित्सा  कार्य कर सकते है , अपने मरीजो को मेडिकल प्रमाण पत्र दे सकते है – सुप्रीम कोर्ट का निर्णय होने से कोई अधिकारी महोदय परेशान नहीं करते है क्योंकि परेशान करने पर उनके विरूद्ध सुप्रीम कोर्ट की अवमानना का केस लग सकता है , तुम्हे संस्था द्वारा दिए गये प्रमाण पत्रों के साथ कुछ प्रपत्र अलग संस्था की ओर से दिए जाते है , जिन्हें सम्मान पूर्वक अधिकारी महोदय को दिखाना होता है – यदि अधिकारी महोदय हमारी संस्था से कोई जाँच आख्या / वेरिफिकेशन मांगते है तो उन्हें अपने हाई कोर्ट / सुप्रीम कोर्ट के लीगल एडवाइजरतथा इस संस्था  की ओर  से सत्यापन भेज दिया जाता है।  अत: बिना किसी भय के भगवान् को याद करते हुए सच्ची सेवा भावना के साथ पीड़ित मानवता की सेवा करे


Q.2 Can I write the word “DOCTOR” with my name after completing Para medical course/or alternative medical course? 
ANS. No you can?t affix the doctor word with your name. After completing paramedical course. You can write word Basic doctor or alternative doctor with your name after completing naturopathy, yoga CMS and alternative courses.



Q.3 Can I get employment in private or Govt. sector after completing the course?

ANS. IT is depending upon the employing Govt or Private institute or organization as their requirement on the basis of these certificates if any employing institute or originations give you job and ask us for verification of your certificate. Our organization will send them verification of your training certificates. These certificates will be proof of your qualification in the related subject.


Q.4 What is alternative medicines or alternative medical systems? 
ANS. The medicines or the system, which are used to make healthy person or to remove diseases, except allopathic system. Known as alternative medicine or alternative systems. In some countries the Govt board /Council is constituted- as In India the first part alternative systems as Ayurved Homeopathic, Unani & Siddha, Naturopathy & Yoga are recognised by Govt. In second part Acupresure, Acupunture, Herbal medicine, Home remedies, Electrohompathy, Sun thereapy Meditation Massage Yoga & Naturopathy etc under private sector. In third part Naturopathy & Yoga run by both.

_____________________________________________________________________________

Qustion- 5 :  What is RMP Registration Define It ?

Answer : The Meaning of RMP is Registered Medical Practitioner in INDIA, Initially RMP Certificate were issued by The Govt. on Experience base for Allopathic/Ayurvedic General Practice. Later on it had been closed due to opposition of training holder Doctors since a long it is Closed till today. 
  So the RMP Registration are issued By this Organization or the institutes which are Registered By The Govt. It is a Metter of consideration of the Govt. that more than one caror RMP Doctors are providing their Primary Health Care Services in rural ,urban and also in the city areas .These Doctors are not allowed Freely to Practice Nor Strongly Prohibited . There is no rule to give training to these Doctors By Govt. It is Under Planning As The Letter No. 110/8/4/77MPT/ME(P)1979 & No. 46/70MPT of Govt. of INDIA. According to the News of Leading News Paper’s Daily Amar Ujala & Dainik Jagran Now The Govt. being prepared to imparting training & issuing Registration of Experience Holding Doctors. So, our Organisation is issuing RMP Registration On Merit base For Taking Registration form the Govt. This RMP Certificate Will be a Proof of the duration of Practice of a practitioner or Doctor At the time of Being Registration by Govt. So any experience Doctor/Practitioner/Eager Professional can take RMP registration certificate from this organisation. The organization will safeguard to the RMP doctors as he will bind the rules of the Council and the Govt. The RMP Certificate will be issued by the Enrolment Council of the Registered Medical Practitioner an unit of The Moved IOSMS University Reg. by Govt . 

_____________________________________________________________________________

-: SOME SPECIAL QUESTIONS :- 

WARNING :-  DEAR DOCTORS , AT THIS TIME THERE ARE SEVERAL NEW INSTITUTE ARE OPENING IN THE FIELD OF ALTERNATIVE , NATUROPATHY & THE PRIMARY HEALTH CARE ,  WHO DOES NOT GIVE PROPER AND TRUE INFORMATION ABOUT COURSES , REGISTRATION & THEIR INSTITUTE’S RECOGNITION i.e. THE EXPERIENCED DOCTORS OR STUDENTS TAKES ADMISSION IN THE  COURSE OR TAKE REGISTRATION . ON BEING ENQUIRY THE CERTIFICATES FOUND FALSE & THE INSTITUTE OFFICE FOUND CLOSED AND CERTIFICATE HOLDER DOCTOR PROVE FALSE IN HIMSELF SO BE -WARE AND CAREFUL —– BFFORE TAKING CERTIFICATES FROM ANY INSTITUTE ASK ATLEAST 4 QUESTIONS .

1 ) ARE YOUR INSTITUTE IS WORKING MORE THAN 10 YEARS – AGO . HAVE U ALL RECORDS – ON BEING ENQUIRY BY C.M.O. , DRUG INSPECTOR /POLICE / MEDIA OR ANY RELATED EXCECUTIVE – WILL U GIVE /SEND VERIFICATION ?

2) CAN I SHOW YOUR CERTIFICATES TO THE C.M.O. / DRUG INSPECTOR /POLICE / MEDIAEtc. BEFORE START PRACTICE ?

3 ) WILL U SHOW YOUR OFFICE ADDRESS  / IN YOUR CERTIFICATE

4) WILL U  SHOW REGISTRATION NO. / ACT NUMBER   WHICH IS ALLOTTED BY U BY GOVERNMENT

IF ANY INSTITUTE GIVE ANSWER IN YES.. U CAN TAKE CERTIFICATES WITHOUT HESITATION , BUT BEFORE TAKING CERTIFICATES — U WILL  SEE THE SPECIMEN OF THE CERTIFICATE  .

5 ) CAN I RECEIVE REGISTRATION CERTIFICATE FROM C.M.O. OFFICE OF OUR DISTRICT ON BEHALF OF CERTIFICATES ISSUED BY U .?